भारत रत्न सम्मान से जुड़े 10 रोचक तथ्य

 भारत रत्न पुरस्कार की स्थापना 2 जनवरी, 1954 को भारत के पहले राष्ट्रपति डॉ. राजेंद्र प्रसाद ने की थी।

भारत रत्न पुरस्कार को एक पीपल के पत्ते के आकार में डिज़ाइन किया गया है, जिसके ऊपर "भारत रत्न" लिखा हुआ है।

भारत रत्न पुरस्कार के लिए नामों की सिफारिश भारत के प्रधानमंत्री द्वारा राष्ट्रपति से की जाती है।

भारत रत्न पुरस्कार को आम तौर पर हर साल दिया जाता है, लेकिन ऐसा हमेशा नहीं होता है।

भारत रत्न पुरस्कार को किसी भी उम्र के व्यक्ति को दिया जा सकता है, पुरुष या महिला।

भारत रत्न पुरस्कार को किसी भी नागरिकता के व्यक्ति को दिया जा सकता है, भारतीय या विदेशी।

 भारत रत्न पुरस्कार के लिए कोई वित्तीय पुरस्कार नहीं है।

भारत रत्न पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं को एक प्रमाण पत्र, एक पदक और एक पट्टिका प्रदान की जाती है।

 भारत रत्न पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं को राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित किया जाता है।

भारत रत्न पुरस्कार प्राप्तकर्ताओं को कई विशेषाधिकार प्राप्त होते हैं, जैसे कि मुफ्त यात्रा, चिकित्सा सुविधाएं और सरकारी आवास।

Thanks For Reading

Next: 10 Historical fact about Patwon ki Haveli